Lawyers vs Police: इस मुकाबले का कोई अंपायर नहीं!

Lawyers vs Police: इस मुकाबले का कोई अंपायर नहीं!

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प और आगजनी से मचा हडकंप अभी शांत नहीं हुआ है. इस घटना के बाद अब दिल्ली की ही साकेत कोर्ट का एक विडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ है. वायरल हुए इस विडियो में एक ऑन ड्यूटी पुलिस वाले को कोर्ट परिसर में ही पुलिस वालों द्वारा न सिर्फ लानत मलामत का सामना करना पड़ा बल्कि उसके साथ मारपीट भी हुई. बात बस इतनी भर है और पुलिस की रक्षा के लिए मॉरल पुलिसिंग की शुरुआत हो गई है. मामला प्रकाश में आने के बाद समाज का वो वर्ग जो सोशल मीडिया पर सक्रिय है और चीन-पाकिस्तान, इजराइल-अमरीका, तेल की कीमतों से लेकर डॉलर तक किसी भी मुद्दे पर प्रतिक्रिया देता है, ने मामले पर अपना अपना पक्ष लेने की शुरुआत कर दी है. एक वर्ग पुलिस के साथ है. जबकि दूसरा वकीलों के पक्ष में है. जो पुलिस के पक्ष में हैं उनके तर्क अलग हैं. वहीं जो वकीलों के साथ कंधे से कंधा मिलकर खड़े हैं वो अलग तरह का राग अलाप रहे हैं. सिर्फ दिल्ली ही क्यों कानपुर, ग्वालियर तक में वकील सड़कों पर हैं और बातों का दौर जारी है.

कुछ और बात करने से पहले बात दिल्ली की साकेत कोर्ट में हुई घटना पर. बीते दिन जो दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में हुआ उसके खिलाफ दिल्ली की सभी जिला अदालतों के वकील हड़ताल पर थे. वकील इस हड़ताल के प्रति कितने गंभीर थे इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है दिल्ली हाई कोर्ट में भी वकील जज के सामने पेश नहीं हुए. अपने साथ हुई ज्यादती की बात कहकर प्रदर्शन करने वाले वकीलों ने आम लोगों को रोककर ट्रैफिक जाम किया और पत्रकारों, आम लोगों और पुलिस के साथ मारपीट की.
बात साकेत कोर्ट की चल रही है तो बता दें कि साकेत कोर्ट के पास वकीलों ने एक दिल्ली पुलिस के जवान की पिटाई कर दी. बाइक सवार दिल्ली पुलिस के जवान को वकीलों ने घेर लिया और थप्पड़ जड़ने लगे. जब जवान वहां से भागने लगा तो वकीलों ने उस पर हेलमेट चलाकर मारा. हालांकि हेलमेट उसके बाइक पर लगा. पीड़ित पुलिसवाले ने साकेत थाने में शिकायत दर्ज कराई है. बताया जा रहा है कि इस मामले में दिल्ली पुलिस वकीलों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सकती है.

साकेत कोर्ट के बाहर जो सुलूक वकीलों ने पुलिस वालों के साथ किया उसके बाद जो लोग पुलिस के साथ हैं. उनका कहना है कि जो लोग अपने को कानून का रखवाला समझते हैं यदि वही ऐसा करें तो स्थिति काफी गंभीर है. लोगों ने मांग की है कि इस तरह के बर्ताव के लिए साकेत कोर्ट के बाहर पुलिस पर हमला करने वाले वकीलों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

वकीलों की बर्बरता देखकर आहत लोग लगातार पुलिस को संतावना दे रहे हैं. वकीलों के खिलाफ आम से लेकर खास तक सबकी आवाज बुलंद है.

Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )