हर 25 किलोमीटर पर होगा व्हीकल चार्जिंग स्टेशन, बिजली मंत्रालय ने जारी किए नए नियम

हर 25 किलोमीटर पर होगा व्हीकल चार्जिंग स्टेशन, बिजली मंत्रालय ने जारी किए नए नियम

नई दिल्ली। इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय विद्युत और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्‍य मंत्री ( स्वतंत्र प्रभार) तथा कौशल विकास व उद्यमिता राज्‍य मंत्री आरके सिंह ने इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग दिशा-निर्देशों एवं विनिर्देशों में संशोधनों को मंजूरी दे दी है। बुनियादी ढांचागत सुविधाओं से जुड़े यह संशोधित दिशा-निर्देश 14 दिसम्‍बर, 2018 को विद्युत मंत्रालय की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का स्‍थान लेंगे। बदलावों की जानकारी देते हुए राज्य मंत्री आरके सिंह ने कहा कि विभिन्न हितधारकों से मिले सुझावों के बाद नए दिशा-निर्देश तैयार किए गए हैं। उन्होंने कहा कि हमने नए दिशा-निर्देशों में इलेक्ट्रिक वाहन मालिकों की चिंताओं को दूर करने की कोशिश की है। उन्‍होंने उम्‍मीद जताई कि संशोधित दिशा-निर्देशों से देश इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के लिए लोग प्रोत्‍साहित होंगे।

तीन किलोमीटर की परिधि में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन

नए दिशा निर्देशों में इलेक्ट्रिक वाहन मालिकों की चिंताओं को दूर करने के लिए पूरे देश में एक समुचित चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की बात कही गई है। नए दिशा-निर्देशों के तहत शहरों में 3 किलोमीटर की परिधि में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन अवश्‍य उपलब्ध होगा। इसके अलावा सभी प्रकार के हाईवे के दोनों ओर प्रत्येक 25 किलोमीटर पर एक चार्जिंग स्टेशन उपलब्‍ध होगा। पूरे देश में चार्जिंग स्टेशन का इंफ्रास्ट्रक्चर दो चरणों में तैयार किया जाएगा। पहले चरण यानी 1 से 3 साल के अंदर 40 लाख (जनगणना 2011 के अनुसार) से अधिक की आबादी वाले शहर और इनसे जुड़े सभी एक्सप्रेस वे पर चार्जिंग स्टेशन लगाए जाएंगे। दूसरे चरण के सतह 3 से 5 वर्ष में राज्यों की राजधानियों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यालयों में चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। इसके अलावा एक शहर से दूसरे शहर में भ्रमण और भारी इलेक्ट्रिक वाहनों जैसे कि बसों/ट्रकों आदि के लिए प्रत्येक 100 किलोमीटर पर फास्ट चार्जिंग स्टेशन स्थापित किया जाएगा।

नए दिशा-निर्देशों में घरों और कार्यालयों में निजी चार्जिंग स्टेशन बनाने का भी प्रावधान किया गया है। इसके लिए केवल विद्युत वितरण कंपनियों से अनुमति लेनी होगा। इन जगहों पर फास्ट या स्लो चार्जर लगाना पूरी तरण से उपभोक्ता पर निर्भर होगा। चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने के लिए ऊर्जा दक्षता ब्‍यूरो को केन्‍द्रीय प्रमुख एजेंसी के रूप में नामित किया गया है। निजी चार्जिंग स्टेशन पर बिजली की खपत को घरेलू माना जाएगा और इन पर घरेलू दरें ही लागू होंगी। हालांकि पब्लिक चार्जिंग स्‍टेशनों (पीसीएस) पर बिजली की दरें विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 3 के तहत जारी टैरिफ नीति के अनुसार तय की जाएंगी।

Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )