राम मंदिर: जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र को योगदान में मिले 1,511 करोड़

राम मंदिर: जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र को योगदान में मिले 1,511 करोड़

शुक्रवार को, राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के ट्रस्ट कोषाध्यक्ष, स्वामी गोविंद देव गिरि ने कहा कि श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के खाते में अब तक 1,511 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं। जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण और प्रबंधन की देखरेख करता है।

स्वामी गोविंद देव गिरी ने कहा, “अब तक, राम मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट के खाते में 1,511 करोड़ जमा किए गए हैं।” (एएनआई)

गिरि ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि तीर्थक्षेत्र भारत के 4 लाख गाँवों और 11 करोड़ परिवारों तक पहुँचना चाहता है। उन्होंने कहा, ”अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए पूरा देश चंदा दे रहा है। हम अपने दान अभियान के दौरान देशभर के 4 लाख गांवों और 11 करोड़ परिवारों तक पहुंचने का लक्ष्य रखते हैं। हम 15 जनवरी से डोनेशन ड्राइव का संचालन कर रहे हैं और यह 27 फरवरी तक चलेगा। मैं ड्राइव के हिस्से के रूप में सूरत में हूं।”

ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष ने आगे रेखांकित किया कि बड़ी संख्या में दान इसलिए है क्योंकि लोग अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर उत्साहित हैं। उन्होंने कहा, “लोग ट्रस्ट में योगदान दे रहे हैं। 492 वर्षों के बाद, लोगों को फिर से धर्म के लिए कुछ करने का ऐसा मौका मिला है।“

अयोध्या में भव्य मंदिर के निर्माण के लिए योगदान अभियान 15 जनवरी से शुरू हुआ था। यह अगले दो सप्ताह तक चलेगा और 27 फरवरी को समाप्त होगा।

नवंबर 2019 को, भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता में सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की पीठ ने राम लल्ला के पक्ष में फैसला सुनाया। पीठ ने कहा कि 2.7 एकड़ में फैली विवादित जमीन को सरकार द्वारा गठित एक ट्रस्ट को सौंप दिया जाएगा। ट्रस्ट राम मंदिर के निर्माण की निगरानी करेगा।

फरवरी 2020 में, निर्माण की देखरेख के लिए, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के गठन की घोषणा की।

5 अगस्त 2020 को पीएम मोदी ने मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन किया।

Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )