मुंबई बारिश के चलते लोगो को  कई परेशानियों का सामना करना पड़ा लेकिन आज मिली बारिश से राहत 

मुंबई बारिश के चलते लोगो को  कई परेशानियों का सामना करना पड़ा लेकिन आज मिली बारिश से राहत 

मुंबई में मंगलवार से जारी मूसलाधार बारिश से बुधवार को मायानगरी की रफ्तार एक बार फिर थम गई। जगह-जगह सड़कें ओवरफ्लो हो गईं, कई इलाकों में तो कमर तक पानी भर गया। बुधवार को मुंबई में डेढ़ दिन के गणपति का विसर्जन भी था। हर साल त्योहार के इस मौके पर मुंबई चहकती नजर आती है लेकिन इस बार शहर की रौनक बारिश में धुली दिखी। पानी भरने से गणेश पंडाल भी सूने हो गए, कई लोगों को दफ्तर में ही रात गुजारने को मजबूर होना पड़ा। बुधवार को कहर बरपाने के बाद गुरुवार को भी मौसम विभाग ने मुंबई में भारी बारिश और हाई टाइड का अलर्ट जारी किया है। इस बार बारिश की वजह गणेश चतुर्थी  की चमक फीकी पड़ने की मौसम विभाग की भविष्यवाणी सही साबित हुई। भारी बारिश ने गणेश पंडालों से भक्तों को दूर कर दिया। मुंबई के प्रसिद्ध गणेश पंडाल जैसे लालबागचा राजा, जीएसबी सेवा मंडल, गिरगांवचा राजा और डोंगरीचा राजा में श्रद्धालुओं की भीड़ पिछली बार से आधी रह गई। किंग सर्कल स्थित गौड़ सारस्वत ब्राह्मण सेवा मंडल में बुधवार को महज 25 हजार भक्त शामिल हुए। पिछले साल की तुलना में यह एक चौथाई ही है।

मुंबई में बुधवार को 6 घंटे में हुई 206 मिमी बारिश ने लोकल सेवा को भी रोक दिया और लाखों लोग फंसे रह गए। बुधवार को सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े आठ बजे तक की बारिश में कोलाबा में 71.3 मिमी बारिश हुई जबकि सांताक्रूज में तिगुनी 217.3 मिमी बारिश हुई।
अभिनेत्री रेणुका शहाणे ने सोशल मीडिया पर मुंबई बारीश का अपना अनुभव साझा करते हुए बताया कि अंधेरी में आजाद नगर मेट्रो स्टेशन के पास पानी का स्तर तेजी से बढ़ने पर उन्हें अपना वाहन वहीं छोड़ना पड़ा और घुटने तक भरे पानी में चलकर खुद को बचाया। जब उन्होंने पीछे मुड़कर देखा तो उनकी गाड़ी पूरी तरह पानी में समा चुकी थी।
3 से 4 घंटे ट्रैफिक में फंसे रहे लोग
बुधवार को बारिश के चलते ट्रैफिक जाम की समस्या भी बनी रही। लोग घंटों अपने वाहनों के साथ जाम में ही फंसे रहे। गाड़ी में पानी भरने की वजह से कुछ लोगों ने उसे वहीं छोड़ दिया तो कुछ जाम में ही खड़े रहे। वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे (डब्ल्यूईएच) और जोगेश्वरी विक्रोली लिंक रोड (जेवीएलआर) में लोग सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए और तीन से 4 घंटे तक जाम में फंसे रहे। पुलिस ने खराब कारों को हटाकर किनारे किया और बच्चों और बुजुर्गों को सुरक्षित बाहर निकाला। करीब 2500 ट्रैफिक पुलिसकर्मी सड़कों पर तैनात रहे। बारिश की वजह से 29 सड़के बंद कर दी गई और गाड़िया खराब होने के 170 मामले सामने आए।
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )