महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दिया इस्‍तीफा, कहा- तीन पहियों की सरकार नहीं चलेगी, हम जागरूक विपक्ष की भूमिका निभाएंगे

Maharashtra Govt News: देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने महाराष्‍ट्र (Maharashtra) के मुख्‍यमंत्री पद से इस्‍तीफा दे दिया है. प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि बहुमत बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को मिला था. हमें 105 सीट पर सफलता मिली थी. हमने शिवसेना का काफी इंतजार किया. सेना ने एनसीपी और कांग्रेस से बातचीत शुरू कर दी. देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमने कभी भी ढाई ढाई साल का वादा नहीं किया था. शिव सेना ने अपना ही मजाक बनाया. तीनों दलों ने सरकार बनाने से इंकार कर दिया था . तब जाकर 15 दिन बाद राज्‍य में राष्‍ट्रपति शासन लगाया गया. हमने अजित पवार को राजी किया. अब हमारे पास बहुमत नहीं है इसलिए मैं अपने पद से इस्‍तीफा दे रहा हूं.

इससे पहले अजित पवार ने अपना इस्‍तीफा मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को सौंप दिया था. अजित पवार के इस्‍तीफे के बाद महाराष्‍ट्र की सियासत में यह कयास लगना शुरू हो गया कि अब देवेंद्र फडणवीस भी जा सकते हैं.

कल शाम शरद पवार और उद्धव ठाकरे की उपस्थिति में 162 विधायकों ने एकता बनाए रखने की शपथ ली थी. इसके बाद बीजेपी के भीतर भी सियासी समीकरण को मजबूत करने के लिए भागदौड़ तेज हो गई थी. आज सुबह सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्णय में कहा कि कल शाम 5 बजे तक फडनवीस सरकार सदन में बहुमत साबित करे जिसका प्रसारण लाइव हो एवं वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जाए. साथ ही राज्‍यपाल से कहा गया कि वो प्रोटेम स्‍पीकर की नियुक्‍ति करें.

अब अजित पवार का इस्‍तीफा हो गया है. 3:30 बजे महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर अपने पद से इस्‍तीफा देने की घोषणा कर दी. इससे पहले दिल्‍ली में एक उच्‍च स्‍तारीय बैठक हुई जिसमें पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह शामिल थे. बताया जा रहा है कि उसके बाद ही इस्‍तीफा देना तय हुआ.

इससे पहले संविधान दिवस के मौके पर जब सदन में प्रधानमंत्री भाषण दे रहे थे, विपक्ष सदन से वॉकआउट कर गए थे. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने महाराष्ट्र में केन्द्र के रवैये को लेकर कहा था कि उसे देखकर यह बात निश्चित नहीं है कि मौजूदा शासन के हाथ में संवैधानिक मानदंड सुरक्षित है. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विश्वास जताया कि महाराष्ट्र विधानसभा में शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और उनकी पार्टी जीत हासिल करेंगी.

इस बीच शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने कहा कि उद्धव ठाकरे की पार्टी के नेतृत्व वाले गठबंधन के पास महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 162 विधायकों का समर्थन है और ऐसे में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए. हालांकि बीजेपी ने कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा में बुधवार को शक्ति प्रदर्शन से सभी दलों की स्थिति को स्पष्ट हो जायेगी. एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र विधानसभा में शक्ति परीक्षण कराने के उच्चतम न्यायालय के आदेश की प्रशंसा की थी वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि सत्य की हार नहीं हो सकती.

Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )