भारतीय राजनीति के अरुण कल पंचतत्व में विलीन हो गए विलीन !

भारतीय राजनीति के अरुण कल पंचतत्व में विलीन हो गए विलीन !

भारतीय राजनीति के अरुण कल पंचतत्व में विलीन हो गए।  अरुण जेटली का रविवार को दोपहर 3 बजे दिल्ली के निगम बोध घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।  पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली की अंतिम यात्रा के लिए सभी दलों के नेता पार्टी और विपक्ष में पहुंचे।  आपको बता दें कि अरुण जेटली का शनिवार को दिल्ली के एम्स में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था।
जेटली के अंतिम दर्शन करने के लिए , भाजपा, वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, रश्मिंश राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला  सीतारमण, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा सहित अन्य।  वहीं, जयद्रतीर्य दिवेशिया और कपिल सिब्बल एक दूसरे के बीच मौजूद थे।  इसके अलावा मुख्यमंत्री केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया भी जेटली की अंतिम यात्रा में शामिल  थे।
जेटली का निधन पर  सभी की आंखे नम थी अरुण जेटली हिंदुस्तान की राजनीति में एक अद्भुत उदाहरण थे।  वह ज़ाहेकाह के बिना, राजनीति में अपरिहार्य होने का एक उदाहरण था।  वह बीजेपी की ऐसी जरूरत थी, जिसके बिना पार्टी नहीं चलती थी, सरकार नहीं चलती थी, न ही शासन चल रहा था और न ही अनुशासन था।
बीजेपी के लिए बेहद दुखद भरा रहा अगस्त का महीना
बीजेपी के लिए अगस्त की  मनहूसियत का अंत ही नहीं हो रहा है बीजेपी के शोक का सिलसिला खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। एक दुख से पार्टी उबर भी नहीं पाती और दहलीज पर दूसरी दुखद खबर दस्तक दे देती है। इस महीने के पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, फिर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर और अब अरुण जेटली दुनिया को अलविदा कह गए।
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (1 )