Update -:दिल्ली तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प, फायरिंग के साथ तोड़फोड़ और गाडियों को  लगाई आग

Update -:दिल्ली तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प, फायरिंग के साथ तोड़फोड़ और गाडियों को लगाई आग

राजधानी दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में फायरिंग की घटना सामने आई है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक पुलिस और वकील के बीच झड़प के दौरान फायरिंग हुई है। फायरिंग के बाद अफरा तफरी का माहौल रहा। बताया जा रहा है कि वकील की गाड़ी दूसरे की गाड़ी से टकराने के बाद  यह बवाल शुरू हुआ। वकीलों का कहना है कि गाड़ी टकराने के बाद पुलिस वकील को पकड़कर ले गई वहां लॉकअप में वकील को पीटा। जिसके बाद यह बवाल शुरू हुआ।

खबर है कि झड़प के बाद उपद्रवियों ने पीसीआर में भी आग लगा दी। बताया जा रहा है कि यह झगड़ा तीसरी बटालियन और वकीलों के बीच हुआ। तीसरी बटालियन कैदियों को लाने का काम करती है। न्यूज एजेंसी एनएनआई के मुताबिक गाड़ियों में भी आग लगाई गई है। इस घटना में दो वकील घायल हुए हैं। घायल वकीलों को सेंट स्टीफेंस अस्पताल में भर्ती कराया है। न्यूज एजेंसी एनएनआई के मुताबिक वकीलों ने पत्रकारों के साथ भी बदसलूकी की है और  उनके फोन छीन लिए हैं।

कोऑर्डिनेशन कमिटी के चेयरमैन महावीर शर्मा और सेक्रेटरी जनरली धीर सिंह कसाना ने बताया कि तीस हजारी कोर्ट में पुलिस की ओर से की गई फायरिंग के विरोध में 4 नवंबर को दिल्ली की सभी जिला अदालतों में कामकाज ठप रखने का फैसला किया है। बार काउंसिल ऑफ  इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा का कहना है कि हमें पुलिस के आला अधिकारियों और सरकार से दोषियों को जल्द-जल्द गिरफ्तार करने और उन्हें सस्पेंड करने की मांग की है। अगर ऐसा नहीं होता है हालात ऐसे बन सकते हैं जो बार काउंसिल ऑफ इंडिया और सरकार दोनों के बस से बाहर होगी।

बवाल बढ़ता देख कई थानों की पुलिस बुला ली गई है। कोर्ट परिसर में भारी हंगामा देखने को मिला है। बताया जा रहा है कि पुलिस की तरफ से की गई फायरिंग के बाद वकील भड़क गए। कई गाड़ियों में आगजनी और तोड़फोड़ की गई है।वकीलों की मांग है कि गोली चलाने वाले पुलिसकर्मी पर मामला दर्ज किया जाए। इसके अलावा वकीलों का कहना है कि आला दर्जे के अधिकारियों को भी मौके पर बुलाया जाए।

Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )