दरबार-ए-खालसा ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब बेअदबी मामले में प्रकाश सिंह बादल को दी लाहनतें

दरबार-ए-खालसा ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब बेअदबी मामले में प्रकाश सिंह बादल को दी लाहनतें

जतिंदर कुमार. फरीदकोट/कोटकपूरा
14 अक्टूबर 2015 को श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी करने वालों को गिरफतार किए जाने की मांग पर कोटकपूरा के लाईटों वाले चौंक में धरने पर बैठी सिख संगत को पंजाब पुलिस व प्रशासन द्वारा बलपूर्वक हटाए जाने वाले दिन को याद करते हुए दरबार-ए-खालसा द्वारा आज लाहनत दिवस मनाया गया।
इस संबंध में आज सुबह कोटकपूरा के लाईटों वाले चौंक में एकत्रित होकर सिख श्रद्धालुओं द्वारा 2015 की भांति ही सुबह ठीक पांच बजे नितनेम किया गया। इस दौरान सिंह साहिब ज्ञानी केवल सिंह, होंद चिल्लड़ के कत्लेआम को सामने लाने वाले मनविंदर सिंह ज्ञासपुरा, पंजाब एकता पार्टी के जगदेव सिंह कमालू, शिरोमणी अकाली दल टकसाली के मखन सिंह नंगल, गुरदीप सिंह बाजवा व सुखविंदर सिंह बब्बू की उपस्थिति में दरबार-ए-खालसा के मुखी भाई हरजिंदर सिंह माझी द्वारा नितनेम के उपरांत लाहनत पत्र का सार दोहराते हुए पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को गद्दार-ए-कौम के साथ दुत्कारा गया। उन्होंने लाहनत पत्र का सार पढ़ते हुए भावुक लहजे में समूचे घटनाक्रम का वृतांत करते हुए मौजूदा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह को कटघरे में लाते हुए कहा कि कैप्टन सरकार भी इस मुद्दे को मात्र सियासी लाभ के तौर पर प्रयोग में ला रही है। उन्होंने कहा कि यदि कैप्टन सरकार ने भी दोषियों के खिलाफ कार्यवाही नहीं की तो इसका हाल भी बादल सरकार वाला ही होगा। इस दौरान आम आदमी पार्टी के कोटकपूरा विधायक कुलतार सिंह संधवा ने ने भी सत्ताधारी पक्ष के प्रति आक्रोश व्यक्त किया। समागम के अंत में लाहनत पत्र की प्रतियां भी वितरित की गईं।

Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )