कक्षा 12 सीबीएसई, आईसीएसई परीक्षा पर अखिलेश यादव बोले पहले टीका फिर परीक्षा

कक्षा 12 सीबीएसई, आईसीएसई परीक्षा पर अखिलेश यादव बोले पहले टीका फिर परीक्षा

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को कहा कि ‘बिना टीकाकरण के कोई परीक्षा नहीं होनी चाहिए’। उनके अनुसार, बोर्ड परीक्षा आयोजित होने से पहले छात्रों को कोरोनावायरस के खिलाफ टीका लगाया जाना चाहिए।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मंगलवार को ट्विटर पर 12वीं सीबीएसई और आईसीएसई की लंबित बोर्ड परीक्षाओं पर टिप्पणी की। उन्होंने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट पर लिखा, “पहले टीका, फिर परीक्षा।“

यादव की टिप्पणी केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ द्वारा कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा आयोजित करने पर निर्णय लेने के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक आयोजित करने के दो दिन बाद आई है। महत्वपूर्ण बैठक के दौरान, परीक्षा के समय के साथ कार्यप्रणाली, प्रक्रिया, अवधि के बारे में कई विकल्पों पर चर्चा की गई। दिल्ली, केरल और कुछ अन्य राज्यों ने परीक्षा से पहले छात्रों के टीकाकरण की मांग की।

बैठक के बाद शिक्षा मंत्री ने बताया कि एक जून तक ‘सूचित, सहयोगात्मक’ निर्णय लिया जाएगा।

अप्रैल के महीने में, सीबीएसई, आईसीएसई और कई अन्य राज्य बोर्डों ने कोरोनवायरस की दूसरी लहर के कारण बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित कर दिया था। तभी से परीक्षा को लेकर छात्रों के टीकाकरण की मांग उठ रही है।

समाजवादी पार्टी के एमएलसी उदयवीर सिंह ने कहा, ”केंद्र सरकार को छात्रों की जिंदगी से नहीं खेलना चाहिए।“

कुछ दिन पहले दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी कहा था कि छात्रों का टीकाकरण किए बिना कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा आयोजित करना एक बड़ी गलती साबित होगी।

सिसोदिया ने कहा, “छात्रों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर परीक्षा कराना बड़ी भूल साबित होगी। पहले टीका, फिर परीक्षा। देश भर में कक्षा 12वीं के 1.5 करोड़ से अधिक छात्र हैं और उनमें से 95 प्रतिशत सत्रह साल से अधिक उम्र के हैं। केंद्र को विशेषज्ञों से बात करनी चाहिए कि क्या उन्हें कोविशील्ड या कोवैक्सिन के टीके दिए जा सकते हैं।“

वर्तमान में, केवल 18 वर्ष से अधिक आयु के लोग ही भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ वैक्सीन जैब ले सकते हैं।

Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )